गर्मी की छुट्टियां इंटरनेट को बनाएं अपना साथी

परीक्षाएं समाप्त होते ही जैसे बच्चों की सारी परेशानियां खत्म हो जाती हैं और छुट्टियां मनाने के लिए कहीं बाहर ले जाने की उनकी जिद के साथ ही मां-बाप की परेशानियां बढ़ जाती हैं। ऐसी स्थिति में मां-बाप को क्या करना चाहिए? सवाल तो परेशानी भरा है, लेकिन जवाब तो हर सवाल का होता ही है।

ध्यान दें, पिछले कुछ समय से देखने में आ रहा है कि हम बहुत आधुनिक होते जा रहे हैं। इंटरनेट का युग बढ़ता ही जा रहा है। जिसे देखो, हर कोई इंटरनेट से चिपका हुआ है। छोटे हों या बड़े, लड़के हों या लड़कियां, हर कोई मोबाइल, कम्प्यूटर, लैपटॉप इत्यादि का दीवाना है।

और हों भी क्यो नहीं, आखिर जमाना ही इंटरनेट का है। तो क्यों न इस बार बच्चों की गर्मी की छुट्टियों में इंटरनेट से ही भरपूर ज्ञान से उन्हें रूबरू करवाया जाय!

दरअसल इंटरनेट एक ऐसी सुविधा है, जिसमें देश-दुनिया की वो तमाम जानकारियां उपलब्ध हैं, जिन्हें (हो सकता है) आप जानते हैं या जिनके बारे में आप बिल्कुल भी नहीं जानते। बस, आपको करना सिर्फ इतना है कि उन्हें खोजने का प्रयास करना है। जैसे, एक शब्द होता है ढूंढना (रीं१ूँ)।

इसका मतलब है कि जब आप किसी चीज को ढूंढते हैं, तो हो सकता है कि वो चीज आपको एकदम से मिल जाए, या फिर यह भी हो सकता है कि उस चीज को आप दो दिन तक ढूंढते रहें, और फिर कहीं जाकर वो चीज आपको मिले।

इसी तरह इंटरनेट की दुनिया है। यहां पर जो भी जानकारी आप जुटाना चाहते हैं, उसके लिए खोज करनी पड़ती है और यही चीज आपको इन छुट्टियों में सीखनी है।

तो आईये, हम आपको बताते हैं कि इन छुट्टियों में आप इंटरनेट की मदद से क्या-क्या सीख सकते हैं और अपने आपको अपडेट कर सकते हैं:-

डांस सीखना:

बच्चों को नाचने-गाने का बहुत शौक होता है, लेकिन कई बार बच्चों के माता-पिता उन्हें अच्छे डांस-स्कूल में नहीं भेज पाते। इसलिए इंटरनेट पर ‘यू-ट्यूब’ वेबसाईट पर आप डांस स्टेप अपने घर में ही सीख सकते हैं। अपने पापा-मम्मी के मोबाइल में या अपने कम्प्यूटर पर ‘यू-ट्यूब’ डांस के अच्छे-अच्छे स्टेप सीखिए। इससे खुद भी मस्ती कीजिए और अपने दोस्तों को भी अपने साथ जोड़ सकते हैं।

खाना बनाना:

इंटरनेट के माध्यम से आप बहुत अच्छे-अच्छे पकवान बनाना सीख सकते हैं। आप चाहे लड़की हैं या लड़का, खाना कोई भी बना सकता है। बस, जरूरत है सीखने की। इंटरनेट पर ‘यू-ट्यूब’ के माध्यम से वीडियो देखकर आप खाना पकाना सीख सकते हैं, वहीं www.tarladalal.com, www.indianfoodforever.com, www.kalchul.com, www.nishamadhulika.com, www.khanapakana.com इत्यादि वेबसाईटों से पढ़कर आप अच्छा खाना बनाना सीख सकते हैं।

समाचार-पत्र, पत्रिकाएं पढ़ना:

समाचार-पत्र, पत्रिकाएं पढ़ना जीवन में बहुत लाभदायक होता है। इनके माध्यम से जो जानकारियां आपको मिलती हैं, वो आपके ज्ञान को बढ़ाने में सहायक होती हैं। इंटरनेट पर हर भाषा के समाचार-पत्र, पत्रिकाएं उपलब्ध होती हैं। उनकी वेबसाइट खोलकर उनसे संबंधित बहुत सी जानकारियां आप जुटा सकते हैं।

आॅनलाईन गेम्स:

अगर आपका मनोरंजन करने का मन है, कहने का मतलब आप नए-नए व मनोरंजक खेल खेलना चाहते हैं, तो भी इंटरनेट आपकी बहुत मदद करता है। इंटरनेट पर आॅनलाईन गेम्स की बहुत सारी वेबसाइट्स होती हैं, जिन पर आप अकेले या अपने मित्रों के साथ खेल सकते हैं। www.bigfishgames.com, www.miniclip.com, www.pokemon.com, www.onlinegames.com, www.zapak.com इत्यादि वेबवाईटों पर हजारों गेम्स हैं, जिनसे आप मनोरंजन कर सकते हैं।

टूरिज्म:

अगर आपके माता-पिता आपको इस बार कहीं घूमाने नहीं ले जा रहे हैं, तो फिक्र मत कीजिए। क्योंकि इंटरनेट के माध्यम से आप अपने घर में रहते हुए विभिन्न टूरिस्ट स्पोट तक पहुंच सकते हैं। आप जिस भी जगह जाना चाहते हैं, अपने इंटरनेट पर उस जगह का नाम लिखें, और उससे संबंधित ढेर सारी जानकारी जुटाएं।

फिर उन जानकारियों को अपने दोस्तों में शेयर करें, तो इससे आपको उस जगह की अच्छी जानकारी भी हो जाएगी और आपके दोस्त भी आपकी वाह-वाह कर उठेंगे।

पढ़ाई में मददगार:

इन छुट्टियों में आप अपनी आगे की पढ़ाई के बारे में भी जानकारी ले सकते हैं। जैसे आपने दसवीं कक्षा के एग्जाम दिए हैं और आप अब 11वीं कक्षा में प्रवेश करने जा रहे हैं, तो आगे की पढ़ाई आपको किस प्रकार करनी है, कौन से स्कूल में प्रवेश लेना है इत्यादि तमाम तरह की जानकारियां आप इंटरनेट के माध्यम से जुटा सकते हैं।

आर्टिस्ट बन सकते हैं आप:

अगर आपको पुरानी चीजों से नई नई चीजें बनाने का शौक है, तो इंटरनेट आपकी खूब मदद कर सकता है। अगर आपका फेसबुक पर एकाउंट है, तो वहां पर बहुत से पेज ऐसे होते हैं, जो इस तरह की कला सीखाते हैं।

www.facebook.com/5min.crafts,www.facebook.com/craftsjunction, www.facebook.com/phoolvari इत्यादि पेज से आप सीखकर अच्छे कलाकार बन सकते हैं।

मेंहदी लगाना:

आप किसी की किताब में मेंहदी के कुछेक ही चित्र देखकर उन जैसी मेंहदी लगाना सीख सकते हैं, लेकिन इंटरनेट पर इसकी कोई सीमा नहीं है। किसी भी सर्च इंजन में जाकर या सबसे बेस्ट है कि आप गुगल इमेज में जाकर सिर्फ ‘मेंहदी डिजाईन’ लिखें, तो आप पाएंगे कि सुंदर-सुंदर मेहंदी की हजारों इमेज आपके सामने होंगी! इसके अलावा वीडियो के माध्यम से भी मेंहदी लगाना आप सीख सकते हैं।

इन सबके अलावा कुछ ऐसे तरीके भी है जिन्हें अपनाकर आप इन छुट्टियों का फायदा उठा सकते हैं:-

■ एक बड़े टब में आठ गैलन पानी, लिक्विड सोप (इतना जिससे पानी में झाग बन सके) और एक कप ग्लिसरीन (जो केमिस्ट की दुकान पर मिल जाएगी) डालें और कुछ घंटों तक उसे पड़ा रहने दें। इसके बाद बच्चों को स्ट्रॉ से फूक मार कर उसमें बुलबुले बनाने के लिए कहें। सच मानिए, बच्चों को बहुत मजा आएगा।

■ छुट्टियों में बच्चे बहुत कुछ सीख सकते हैं। उन्हें म्यूजिक क्लास, डांस क्लास ज्वाइन करवाएं, या फिर स्वीमिंग, पेंटिंग आदि भी सिखा सकते हैंं।

■ दोपहर की चिलचिलाती धूप में बच्चों के लिए आउटडोर गेम खेलना ठीक नहीं, इसलिए उन्हें इनडोर गेम, मसलन कैरम-बोर्ड, लूडो, शतरंज आदि खेलने के लिए कहें।

■ बच्चों को आर्ट गैलरी में ले जाएं, नयी सुंदर कलाकृतियों को देखकर बच्चों को आनंद आएगा। उन्हें एक-एक कलाकृति की बारीकियां समझाएं, इससे उनमें कला के प्रति रूचि और समझ पैदा होगी।

■ बच्चों को किसी खुले स्थान पर ले जाएं और सूर्योदय या सूर्यास्त के समय आकाश में बनती-मिटती रंग-बिरंगी आकृतियों को देखें। इन बनते-मिटते रंगों को देखकर बच्चे अभिभूत हुए बिना नहीं रहेंगे।

■ बच्चों में पढ़ने-लिखने की रूचि पैदा करें। इसके लिए उन्हें बच्चों के लिए लिखी गई पुस्तकें, पत्र-पत्रिकाएं उपलब्ध कराएं। अखबार के लिए समाचार बनाने के लिए उन्हें उत्साहित करें। बाल-कहानियां पढ़ने के लिए दें और उन कहानियों को अपने ढंग से लिखने के लिए उत्साहित करें। उद्देश्य है बच्चों को उनकी रूचि के कामों से जोड़ना और रचनात्मक कार्यों के लिए प्रोत्साहित करना।

■ बच्चों को पत्र-पत्रिकाओं में से चित्र काटने के लिए कहें। उन चित्रों के अलग-अलग हिस्सों को मिलाकर असामान्य और मजाकिया प्रभाव पैदा किया जा सकता है, मसलन किसी आदमी के धड़ को बिल्ली के सर से जोड़ दिया जाए। बच्चों को इसमें बहुत मजा आएगा।

■ बच्चों को पत्र मित्र बनाने के लिए कहें। बच्चों से किसी मित्र या रिश्तेदार को पत्र लिखने के लिए कहेंं।

■ बच्चों को सुबह गु्रप बनाकर मॉर्निंग वॉक के लिए जाने के लिए कहें। शाम के वक्त उन्हें ग्राउंड में खेलने के लिए कहें। इससे उनका थोड़ा व्यायाम भी हो जाएगा और मन भी बहल जाएगा।

■ पढ़ाई से थके और ऊबे बच्चों के लिए घर का काम करना आनंददायक हो सकता है। बच्चे उत्साहपूर्वक घर के कामों में हिस्सा लेते हैं।

छुट्टियों में उन्हें घर के छोटे-छोटे काम करने के लिए कहें। आवश्यक निर्देश दें, पर उन्हें अपने ढंग से काम करने दें। निश्चित ही उन्हें मजा आएगा और आपको थोड़ा आराम मिल जाएगा और इससे बच्चों में आत्मनिर्भरता भी आएगी।
-आर. सिंघला