परीक्षा के लिए स्वयं को व्यवस्थित करें:
परीक्षा का डर शायद बहुत पुराना डर है। विद्यार्थी परीक्षा के नाम से ही डरने लगते हैं। ऐसा ठीक नहीं है। यदि हम व्यवस्थित रूप से चलें तो परीक्षा कोई हऊआ नहीं। फाइनल एग्जाम या बोर्ड एग्जाम भी साधारण लगेंगे पर बहुत कम बच्चे होते हैं जो प्रारम्भ से व्यवस्थित चलते हैं। अभी भी आप व्यवस्थित होकर अपनी परीक्षा को कुछ आसान तो बना सकते हैं।

समय योजना बनाएं:-

परीक्षा में कितने दिन बचे हैं और सलेबस कितना है, कितने सब्जेक्ट्स हैं, उसी अनुसार स्वयं को व्यवस्थित करें। यदि समय कम है तो एनसीईआरटी की किताबों से अपना सलेबस पूरा करें। एक्स्ट्रा किताबों की ओर से ध्यान हटा लें ताकि एक ही बुक से पूरी तैयारी कर सकें। आखिरी सप्ताह को रिवीजन सप्ताह रखें।

पढ़ाई के लिए अधिक समय डिवोट करें। हर दिन आपके लिए महत्त्वपूर्ण है, इसका अच्छी तरह से लाभ उठायें। हर दिन के लिए योजना बनायें और अमल करें, आपको लगेगा कि आपकी योजना प्रभावपूर्ण रही है।

प्रभाव वाला समय:-

आप सोचें कि किस समय आप अच्छी तरह से याद कर सकते हैं, उस समय में मुश्किल विषय चुनें जब आपको लगे कि इस समय अधिक ध्यान देना मुश्किल है। उस समय आसान विषय देखें। इसलिए यह देखकर योजना बनाएं कि कौन सा समय ऊर्जावान है, उस समय उसका पूरा लाभ उठायें। कम ऊर्जा के समय विषयों को दोहरा सकते हैं। अपनी क्षमता को देखते हुए उपलब्ध समय का पूरा लाभ उठायें।

सोच को सही दिशा दें:-

अपनी सोच सकारात्मक रखें। जो विषय मुश्किल लगें, उन्हें यह सोचकर मत छोड़ें कि मैं नहीं कर सकता या बाद में देख लूंगा बल्कि यह सोचें कि मैं कर सकता हूं और उस काम को करने में लग जायें। बार-बार स्वयं को याद दिलाएं कि मैं यह कर सकता हूं।

चिंता दूर रखें:-

जो समय बीत चुका है उसके बारे में सोचकर समय नष्ट न करें। सोच के कीटाणु को अपने से दूर रखें। पढ़ाई करते समय बीच बीच में गहरी सांस लें और धीरे-धीरे उसे छोड़ें, कुछ पल रूके। अपना भविष्य संवारने के लिए नई सोच पैदा करें।

एकाग्रचित रहें:-

जो विषय पढ़ें, एकाग्रचित्त होकर पढ़ें ताकि अधिक लाभ उठा सकें। रिवीजÞन हेतु कुछ प्वाइंट नोट कर लें और अंत में उन्हें दोहरा लें। जब आप एक विषय को पढ़ रहे हों तो उसी विषय पर सोचें। अन्य विषयों को भूल जायें। एकाग्र मन से पढ़ने पर कम समय में अधिक पढ़ाई की जा सकती है।

थोड़ा आराम भी करें:-

केवल पढ़ाई ही नहीं, थोड़ा आराम भी अवश्य करें। जब आप पढ़ते पढ़ते थक जायें तो अपने मस्तिष्क को आराम दें ताकि क्षमता बनी रहे। ऐसे में स्टडी टेबल से उठकर थोड़ी स्टेÑचिंग कर लें, घर में थोड़ा घूम लें, परिवारजनों से बात कर लें और फिर आकर पुन: पढ़ाई प्रारम्भ कर लें।
– नीतू गुप्ता