बजटिंग की आदत बनायें

अंग्रेजी कैलेण्डर के हिसाब से शासकीय रूप से 1 अप्रैल से 31 मार्च का समय वित्त-वर्ष के रूप में माना जाता है। यही कारण है कि केंद्र व राज्य सरकार फरवरी के महीने में सदन में नये वित्तीय वर्ष के लिये बजट प्रस्तुत करती है।

बजट का मतलब होता है आमदनी व खर्च का अनुमान। इन दिनों अखबारों, व समाचारों में प्राय: बजट की चर्चा पढने सुनने को मिल जाती है। क्या आपने कभी अपने घर का बजट बनाया है ? क्या आपने कभी इस बात का हिसाब लगाया है कि आपके घरेलू खर्चों पर आपकी आय का कितना हिस्सा खर्च हो रहा है? भविष्य के लिये आप कितनी बचत कर रहे हैं ? आप ही अपने घर की गृह मंत्री और वित्त मंत्री भी हैं अत: घर के बजट बनाने और उसे क्रियान्वित करने की जवाबदारी भी आपकी ही है।

घरेलू बजट बनाने से तात्पर्य घर के सभी खर्चों का हिसाब लगाने से कहीं बढकर है।

इसके जरिए आप हिसाब लगा सकती हैं कि आपकी आय में से कितना खर्च होता है और कितना इसमें से बचाया जा सकता है। समय पर बच्चों की फीस,बिजली, पानी, अखबार, दूध, किराने के बिलों का भुगतान करना, कर्जों का सही समय पर निपटारा करना और अपने बचत, निवेश लक्ष्यों को हासिल करना भी घरेलू बजट के अंतर्गत आता है।

घर का बजट बनाने का सबसे सही उपाय है कि आप खर्चों के लिए अलग-अलग लिफाफे बनाएं( किराए, बिजली बिल, कार ईएमआई इत्यादि)। इसके जरिए आप बिलकुल सही तरीके से जान पाएंगे कि कितना पैसा किस मद पर खर्च हो रहा है। अगर कुछ बचता है तो आप बची हुई राशि को अगले महीने के लिए बचाकर रख सकते हैं या फिर अपनी बचत के रूप में अलग भी रख सकते हैं।

योजना बनाने से शुरूआत करें

शुरूआत के लिए अपनी छोटी से बड़ी जरूरतों और इच्छाओं की लिस्ट बनाकर देखें- खर्चों को जरूरतों और चाहतों के बीच बांटने से आपको ज्ञात होगा कि जीने के लिए किन चीजों की जरूरत है और कौन-कौन से खर्चे सिर्फ आपकी जीवन-शैली को बेहतर बनाने के लिए आवश्यक हैं।

आपको अपनी मासिक आय के हिसाब से चलना होगा और इसके आधार पर ही लागत निकालनी होगी। सारी अंकगणना और हिसाब-किताब इस तरह से करें कि आपका साल भर का बजट तैयार हो जाए। आमदनी के रूप में वेतन, बच्चों को मिलने वाली स्कालरशिप, मकान किराया, अन्य संभावित इनकम, आदि को एक ओर लिखें।

दूसरी ओर की लिस्ट बड़ी होगी।

घर के सभी सदस्यों के साथ बैठकर नियमित व आकस्मिक खर्चों को सूची बद्घ करें। पिछले साल हुये खर्चों को संभावित महंगाई के कारण थोड़ा बढाकर जोड़ें। इसके बाद देखें कि आपकी सालाना आमदनी में यह फिट हो रहा है या नहीं।

सिर्फ बजट बनाना ही काफी नहीं है। इसे देखें कि आपका बजट केवल कागजों पर ही नहीं बल्कि असली जिंदगी में भी सही चल रहा है या नहीं। एक सही बजट वही है जो देखने में भले ही साधारण हो लेकिन आपकी आवश्यकताओं को पूरा करने में सफल साबित हो। हर थोड़े दिनों बाद बजट का विश्लेषण भी कर सकते हैं।

कार मरम्मत, चिकित्सा खर्च, शादी और जन्मदिन, घरेलू उपकरणों का रख-रखाव, आकस्मिक यात्राएं आदि कुछ ऐसे खर्चें हैं जिनके लिए आपके बजट में कुछ स्थान जरूर होना चाहिए।

अगर आपके परिवार में वयस्क और युवा लोग हैं तो बेहतर होगा कि उन्हें भी इस बात की जानकारी हो कि एक पूरे महीने मासिक आमदनी को कैसे चलाया जाता है। इसके अलावा अगर आपके घर में बच्चे हैं तो उन्हें भी इसकी जानकारी दें और सिखाएं कि बजट कैसे बनाया जाता है। आप निश्चित ही यह देखकर हैरान होंगे कि आपके बच्चों के पास कितने नए और उपयोगी सुझाव हैं।

लक्ष्य निर्धारित करें

हर महीने कुछ पैसे बचाने का लक्ष्य बनाएं और इसके जरिए कुछ हासिल करने पर खुशी महसूस करें चाहे वो कोई मोबाइल हो, या छुट्टी पर बाहर जाने का प्रोग्राम हो। इसके लिए एक तरीका है कि आप छोटी-छोटी चीजों के लिए क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल से बचें और ईएमआई पर भी वस्तुएं खरीदने से बचें।

बजट बनाने का मतलब यह नहीं है कि आप किसी फंदे में फंस गए हैं। यह आपकी आर्थिक स्वतंत्रता और सहूलियत के लिए होना चाहिए न कि कोई बंधन।

एक अच्छा बजट आपको पैसे पर नियंत्रण के रूप में बड़ी ताकत देता है। इसके जरिए आप अपने खर्चों को अधिक तर्कसंगत बनाते हैं।

आपने सुना होगा कि केंद्र सरकार के खर्चे बढ गए हैं और सरकार इन खर्चों को नियंत्रित करने की कोशिश कर रही है। इसी तरह आप भी अपने खर्चों को नियंत्रित करें।

प्राथमिकताएं तय करें

सरकार अपने बजट में प्राथमिकता के क्षेत्र तय करती है। वह स्वास्थ्य, शिक्षा आदि को इस क्षेत्र में रखती है। आपको भी अपने खर्चों की प्राथमिकताएं जरूर तय कर लेनी चाहिए। मसलन अगर आपकी प्राथमिकता यह है कि बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले तो फिर उस पर खर्च करना जरूरी है। अगर आपने कर्ज ले रखा है तो उसके भुगतान को भी नहीं भूलना चाहिए।

बजट हर साल बनाएं

बजटिंग को आदत में शामिल करें। अगर इसमें कुछ वक्त भी लगे और कुछ झंझट समझ में आए, तो भी इस काम को करें। अगर आपको इसमें कुछ दिक्कत समझ में आती है तो इसे आसान बनाएं। खर्चों को लिखें। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आप इसके लिए गंभीर नहीं हैं।

जब भी आपको बोनस या अतिरिक्त मुनाफा हो तो बड़े खर्चों के लिए पैसा बचाएं। मसलन छुट्टियां बिताने के लिए या फिर त्योहारों पर होने वाले खर्चे के लिए पैसा बचाएं। बचत भी आमदनी ही है। कहावत है कि जितनी चादर हो, पैर उतने ही फैलाने चाहिये।

बजट बनाने से आपको अपनी चादर का आकार स्पष्ट रूप से मालूम होता है। फिर आप यह तय कर सकती हैं कि आपको चादर बड़ी करनी जरूरी है या पैर सिकोड़कर काम चलाया जा सकता है।
– कल्पना श्रीवास्तव