स्वच्छता का तोहफा करनाल को मिला दूसरा, दिल्ली को चौथा

‘तरुवर फल नहीं खात है, सरुवर पीव न नीर। परमार्थ के कारणे, संतन भयो शरीर।।
महान संत कबीर जी के इस दोहे के अनुसार कि’ जिस प्रकार पेड़ अपने फल खुद नहीं खाते, नदियां-सरोवर खुद पानी नहीं पीते, उसी तरह संतों का उद्देश्य पूरे समाज का भला करना होता है।

परमार्थ के इसी उद्देश्य के तहत डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने धरा को स्वच्छ बनाने का बीड़ा उठाया है।

पूज्य गुरु जी के पावन मार्ग-दर्शन व प्रेरणा से शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैल्फेयर फोर्स विंग द्वारा ‘हो पृथ्वी साफ मिटे रोग अभिशाप’ स्वच्छ भारत अभियान (सफाई महाअभियान) चलाए जा रहे हैं। अब तक देशभर के नगरों व महानगरों में कुल 32 सफाई महाअभियान किए जा चुके हैं, जिसके तहत उन सभी नगरों-महानगरों को स्वच्छता की महान् सौगात मिली है।

डेरा सच्चा सौदा द्वारा चलाए गए सफाई महाअभियान की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए गत 6 मई शनिवार को दानवीर कर्ण नगरी यानि करनाल (हरियाणा) में व 7 मई को देश की राजधानी दिल्ली में पूज्य गुरु जी के आह्वान पर शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के लाखों सेवादारों ने दोनों महानगरों को चंद घंटों में चमका दिया। उल्लेखनीय है कि डेरा सच्चा सौदा की ओर से करनाल में इससे पहले सफाई महाअभियान डेरा सच्चा सौदा की तरफ से 24 मार्च 2013 को चलाया गया था।

उस सफाई महाअभियान में 3 लाख सेवादारों ने मात्र 5 घंटे में पूरे शहर को चकाचक कर दिया था। वहीं नई दिल्ली में पहला सफाई अभियान (बल्कि सफाई महा-अभियानों की शुरूआत कह लीजिए) 21-22 सितम्बर 2011 को (पौने दो दिन), फिर 15 मार्च 2013 को नरेला से तथा 10-11 सितम्बर 2013 को तीन सफाई महाअभियान चलाए जा चुके हैं। तो आइये जानते हैं, करनाल में 6 मई को 31वें और नई दिल्ली में 7 मई को हुए 32वें सफाई महाअभियान के रोचक पलों के बारे:-

करनाल (6 मई 2017, शनिवार):-

दानवीर कर्ण की धरा एवं ऐतिहासिक नगरी करनाल (हरियाणा) में 6 मई 2017 शनिवार को डेरा सच्चा सौदा द्वारा ‘हो पृथ्वी साफ, मिटे रोग अभिशाप’ स्वच्छ भारत अभियान के तहत 31वें चरण का सफाई महाअभियान चलाया गया। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां के मात्र एक आह्वान पर शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के 5 लाख से अधिक सेवादारों ने मात्र 2 घंटों में ही पूरे करनाल शहर के सुंदर रूप को और निखार कर सुंदरतर कर दिया।

करनाल के महर्षि वाल्मीकि चौक (घंटाघर चौक) से इस सफाई महाअभियान का आगाज पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां व हरियाणा के माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सुबह 9 बजकर 38 मिनट पर स्वयं झाडू लगाकर किया।

तत्पश्चात पूज्य गुरु जी व माननीय मुख्यमंत्री जी ने स्वच्छता महाअभियान से संबंधित स्लोगन लिखे गुब्बारे आकाश में छोड़े व सफाई महाअभियान में आहूति डालने पहुंचे सेवादारों को झंडी दिखाकर सफाई कार्य में जुट जाने का संदेश दिया।

इस अवसर पर पूज्य गुरुजी की सुपुत्री आदरणीय साहिबजादी बहन हन्नीप्रीत जी इन्सां तथा हरियाणा परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार, मुख्य संसदीय सचिव हरियाणा सरकार श्री बख्शीश सिंह, विधायक हरविंद्र कल्याण, करनाल नगर निगम की मेयर रेणूबाला गुप्ता, लिबर्टी कंंपनी के एमडी शम्मी बंसल, कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के चेयरमैन अशोक सुखीजा सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

सफाई महाअभियान के शुभारंभ अवसर पर विभिन्न न्यूज चैनलों, समाचार-पत्रों व पत्रिकाओं के पत्रकार सज्जनों ने पूज्य गुरु जी व माननीय मुख्यमंत्री जी से स्वच्छता व राजनीति से संबंधित कई सवाल पूछे, जिनका उन्होंने (पूज्य गुरु जी व मुख्यमंत्री साहब से) माकूल जवाब प्राप्त कर संतुष्टि पाई।

कैसे हुआ करनाल महानगर दो घंटों में चकाचक:-

31वें सफाई महाअभियान को लेकर करनाल शहर को 4 जोनों में बांटा गया था तथा विभिन्न राज्यों के सेवादारों की अलग-अलग जोनों में ड्यूटियां लगाई गई थी। सेवादार सीधे अपने-अपने जोनों में पहुंचे और आदेश प्राप्त कर अपने-अपने जोन में सेवा-कार्यों में जुट गए।

देशभर के विभिन्न राज्यों के साथ-साथ विदेशों से भी अनेक सेवादार इस स्वच्छता के यज्ञ में आहुति डालने पहुंचे थे। इस अभियान का शुभारंभ होते ही चहुंओर से उमड़ता श्रद्धालुओं का सैलाब निरन्तर रूप से शहर की सड़कों पर बढ़ने लगा और देखते ही देखते, यानि मात्र 2 घंटों में लाखों की संख्या में पहुंचे सेवादारों ने पूरे उत्साह से करनाल महानगर के हर गली व कूचों, पार्क, सरकारी कार्यालयों, स्कूल, कॉलेजों, अस्पताल इत्यादि सभी सार्वजनिक स्थानों को बुहार कर चकाचक कर दिया।

शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैल्फेयर फोर्स विंग के सेवादार अपने मुर्शिद-ए-कामिल के पावन वचनों पर फूल चढ़ाते हुए शहर वासियों को सफाई का संदेश देने के लिए अपने साथ अपना झाडू, कस्सी, तसला, फावड़ा व कूड़ा उठाने के लिए पल्लियां लेकर आए थे, इतना ही नहीं, ये सेवादार अपनी रोटी व पीने का पानी भी अपने साथ लिए हुए थे। सेवादारों की सेवा भावना को देख हर कोई कह रहा था, ‘बड़े ही गजब के सेवादार हैं डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालु!’

सफाई महाअभियान में आए हुए सेवादारों को अपने आशीष वचनों से लाभांवित करते हुए पूज्य गुरु जी ने फरमाया कि ‘हमारे धर्मों में स्वच्छता के महत्व को बताया गया है तथा धर्मों में लिखा है कि अगर वातावरण स्वच्छ होगा तो हमारे दिलो-दिमाग तंदुरूस्त होंगे। अच्छे कर्म करोगे तो भगवान खुशियां देंगे। इस स्वच्छता अभियान में पूरा जिला प्रशासन साथ दे रहा है और स्वच्छता अभियान को आगे ले जाना चाहते हैं।

’ पूज्य गुरुजी ने करनालवासियों से आह्वान किया कि अपने आसपास के क्षेत्र को साफ रखें। करनाल को स्वच्छता के लिए मैडल मिला है, बहुत बड़ी बात है। यह अभियान सोने पर सुहागा साबित होगा और करनाल में जो थोड़ी बहुत गंदगी रह गई है, वो भी दूर हो जाएगी।

पूज्य गुरू जी ने आह्वान किया कि यदि हर इन्सान स्वच्छता की आदत बना ले, तो पूरा देश स्वच्छ होने में पलभर की देर भी न लगे। जिस प्रकार आप अपनी रसोई व घर की सफाई रखते हो, उसी प्रकार अपनी गली व आस-पास की सफाई रखें। पूज्य गुरू जी ने खुले में शौच की आदत को बदलने का भी आह्वान किया।

गाय का मल-मूत्र भी वरदान:

पूज्य गुरू जी ने फरमाया कि गाय को माता का दर्जा दिया गया है। गाय का दूध व घी इन्सान के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी है। गौमूत्र व गोबर से घर में बैक्टिरिया-वायरस नहीं फैलता। इसलिए गाय का दूध ही नहीं, गौमूत्र भी वरदान है। हम बचपन के दिनों मेें देशी गाय का एक-एक किलो घी पी जाया करते थे। गाय का घी शरीर के लिए फायदेमंद है, लेकिन यह घी देशी गाय का ही होना चाहिए। सरकार द्वारा प्रदेश में गायों को यूआईडी के तहत टैग किया जा रहा है, यह बहुत ही सराहनीय है!

समाज में प्रेम और भाईचारा बढ़ाने में डेरा सच्चा सौदा की अहम् भूमिका

हरियाणा के माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर शनिवार को करनाल सफाई महा अभियान में शामिल विभिन्न धर्म, जातियों और समुदायों से जुड़ी डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत के प्रेम भाव और सद्भावना को देख गद्गद् नजर आए। मुख्यमंत्री जी ने इस पर एक ट्वीट भी किया है।

उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि डेरा सच्चा सौदा समाज के विभिन्न समुदायों व जातियों के लोगों में प्रेम, भाईचारा और सद्भावना बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। मैं डेरा सच्चा सौदा को करनाल सफाई महा अभियान के लिए बधाई देता हूँ और आशा करता हूँ कि हम सब मिलकर हरियाणा प्रदेश को स्वच्छता में देश का नंबर-1 राज्य बनाएंगे।

खुल गए अरसे से जाम नालों के रास्ते

31वें सफाई महाअभियान के तहत करनाल का चप्पा-चप्पा चहक रहा था, वहीं शहर के विभिन्न हिस्सों में मौजूद गंदगी से अटे नाले भी गंदगी से मुक्ति पा चकाचक नजर आए। जुंडला गेट स्थित गंदे नाले की अगर बात करें, जब यहां भारी तादाद में शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के सेवादार नाले के अंदर उतरकर गंदगी को बाहर निकाल रहे थे, तब भी आस-पास के दुकानदार व राहगीर नाक-भौं सिकौड़ रहे थे।

लेकिन सेवादार इस कदर साफ-सफाई में जुटे थे जैसे कि वे अपने घरों में सफाई कर रहे हों। उन्हें जैसे बदबू आ ही नहीं रही हो। कुछ ऐसा ही नजारा किसान चौक, अनाज मंडी, सेक्टर-12 में भी देखने को मिला। यहां भी सेवादार गटर में उतरकर गंदगी बाहर निकालते नजर आए।

भक्त तो भक्त ही हैं

पूज्य गुरूजी के आह्वान पर जब सेवादारों ने करनाल को चकाचक करना शुरू किया, तो मौके पर मौजूद स्थानीय लोगों ने सेवादारों की इस नि:स्वार्थ भावना को देखने के बाद ठेठ हरियाणवी भाषा में कहा कि ‘वास्तव में भक्त तो भक्त ही हैं।’ लोगों का कहना था कि ‘जो काम हमें स्वयं करना चाहिए था वह काम आज हमारे अनजाने दोस्तों ने आकर किया है।’

फिर खाई कसम

करनाल में चलाए गए सफाई महाअभियान के दौरान स्थानीय निवासियों ने भविष्य में एक बार फिर सफाई व्यवस्था बनाए रखने का प्रण लिया। लोगों ने साध संगत को लिखित में संकल्प फार्म भरकर इस प्रतिज्ञा-पत्र पर हस्ताक्षर भी किए व कहा कि अब इस व्यवस्था को संभालना हमारा फर्ज है। दोबारा डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों को यहां सफाई महाअभियान चलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

करनाल के अहो भाग्य
यह करनाल का सौभाग्य है कि गुरु जी ने जिस तरह से शहरवासियों को प्रेरणा दी है बाकि प्रदेश में भी इसी तरह जागरूकता अभियान चलाया जाए। लोगों को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए कि शहर को स्वच्छ व सुंदर रखें। पूज्य गुरु जी के सहयोग से मोदी जी का ‘स्वच्छ भारत’ व सीएम मनोहर लाल का ‘स्वच्छ हरियाणा’ का सपना भी पूरा हो सकेगा।
रेणू बाला गुप्ता, मेयर नगर निगम करनाल

मिशन स्वच्छ भारत के तहत गुरु जी द्वारा चलाए जा रहे सफाई अभियान की जितनी सराहना की जाए, कम है। तारीफ के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं हैं। मैं चाहता हूं कि पूज्य गुरु जी ऐसा ही सफाई महाअभियान मेरठ में भी चलाएं। पूज्य गुरु जी से यही अपील करने में करनाल आया हूं।
सत्यप्रकाश अग्रवाल विधायक,
मेरठ, (उत्तर प्रदेश)

पूज्य गुरू जी केवल धार्मिक ही नहीं, अपितु सामाजिक कार्य भी कर रहे हैं। समाज का उत्थान करना सबसे बड़ा धर्म है। पूज्य गुरू जी ने उसी धर्म का निवर्हन किया है, अब उसे जो चाहे परिभाषा दे दी जाए। समाज का उत्थान करने के लिए कोई-कोई ही आगे आता है, जैसे कि गुरू जी।
सुरेंद्र मक्कड़, एक्सीईन विद्युत, करनाल

गुरू जी द्वारा चलाए गए सफाई अभियान की जितनी सराहना की जाए, कम है। पहले भी गुरु जी व उनके लाखों सेवादार शहर को साफ करके गए थे। ये अभियान तो पूरी तरह से सार्थक रहा है। हमारी गुरु जी से अपील है कि वे स्वच्छता के साथ-साथ ग्रीन हरियाणा अभियान भी चलाएं ताकि हमारा प्रदेश फिर से हरा-भरा हो।
गौरव जैन, वाईस पे्रजीडेंट, भाजपा उद्योग प्रकोष्ठ, करनाल

ये तो चमत्कार है। गुरु जी इतनी बड़ी सेवा कर रहे हैं जोकि त्याग, तपस्या व सेवाभाव की मिसाल है। शहर को फिर से साफ-सुथरा करने के लिए गुरू जी को बधाई।
प्रेममूर्ति, साधु, करनाल

गुरू जी जो सफाई कर गए वो सराहनीय है, लेकिन पब्लिक की जागरूकता भी जरूरी है। हर नागरिक यदि अपनी-अपनी जिम्मेदारी समझे, तभी फायदा है। अगर लोग जागरूक हों तो बार-बार जागरूकता अभियान की जरूरत ही न पड़े।
डीएस कपूर, प्रबंधक, पंजाब एंड सिंध बैंक, करनाल

पूज्य गुरू जी ने दुनिया के समक्ष जो स्वच्छता की अलख जलाई है, उससे आमजन को प्रेरणा लेनी चाहिए। गांव-शहरों के लोग अनुसरण करें, तो ऐसा हो ही नहीं सकता कि हमारा देश स्वच्छ व सुंदर न बने।
देवेंद्र सरोहा,
सरपंच, बली कुतुबपुुर, सोनीपत

डिप्टी कमिश्नर श्री मंदीप बराड़ ने संभाली व्यवस्था की कमान

इस तपती दोपहरी में जहां एक ओर डेरा सच्चा सौदा के अनुयाई करनाल शहर का कूड़ा-कर्कट और गंदगी निकालने में जुटे थे, वहीं जिला प्रशासन भी उठान के कार्यों में पूरी तत्परता से जुटा रहा। नगर निगम करनाल की मेयर रेनू बाला ने बताया कि सफाई महाअभियान के दौरान कूड़ा उठाने के लिए 202 ट्रैक्टर-ट्राली, 100 डम्फर और 40 जेसीबी की व्यवस्था की गई थी, जबकि साध-संगत की सुविधा के लिए 50 टैंकर पीने के पानी का प्रबंध किया गया और इसके साथ ही प्रशासनिक स्तर पर डीसी साहब मंदीप सिंह बराड़ खुद व्यवस्था की कमान सम्भाले हुए थे।

महर्षि वाल्मीकि चौंक पर जैसे ही पूज्य गुरु जी व मुख्यमंत्री जी का सम्बोधन समाप्त हुआ, इसके तुरन्त बाद साध-संगत कचरा निकालने में जुट गई और वैसे ही तुरंत डीसी साहब भी सफाई व्यवस्था का जायजा लेने के लिए निकल पड़े। शहर से निकाले कचरे को ठंडी सड़क से होते हुए काछवा रोड स्थित क्लैक्शन स्थान पर डाला जा रहा था।

यहां उन्होंने जोन नम्बर एक की नोडल अधिकारी वर्षा खांगवाल से चल रहे सफाई महाअभियान के बारे में जानकारी ली। इस जोन का क्लैक्शन प्वांईट कैथल फ्लाईआॅवर के पास बनाया गया था।

इसके बाद डीसी साहब सैक्टर-16 में बनाए गए क्लैक्शन सेंटर पर पहुंचे, इसका जिम्मा एसीयूटी प्रीति संभाले हुए थी। इसके बाद डीसी के काफिले ने अपना रुख जोन नम्बर 3 की ओर किया। इस जोन की जिम्मेदारी जेडीए सतीश कुमार के पास थी।

इस जोन में कूड़े के उठान के लिए पुरानी सब्जी मंडी और सैक्टर-12 में क्लैक्शन सेंटर बनाए गए थे। श्री मंदीप बराड़ ने मौके पर उपस्थित डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों से भी प्रशासनिक तौर पर मुहैया करवाई गई सुविधाओं के बारे में जानकारी ली।

6 लाख सेवादारों ने 9 घंटे में बुहारा कोना-कोना

32वां सफाई महाअभियान दिल्ली (7 मई 2017, रविवार)

स्वच्छ भारत अभियान ‘हो पृथ्वी साफ मिटे रोग अभिशाप’ के 32वें चरण में 7 मई 2017, दिन रविवार को राष्टÑीय राजधानी को स्वच्छता की चौथी सौगात मिली। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने इंडिया गेट से अभियान का शुभारंभ किया। तत्पश्चात पूरी दिल्ली में एक साथ स्वच्छता का महाअभियान शुरू हो गया।

देश के विभिन्न राज्यों से पहुंचे 6 लाख से अधिक सेवादारों ने लगातार 9 घंटे तक भीष्ण गर्मी की परवाह किए बिना दिल्ली के पार्क, चौराहे, गलियों व सड़कों के किनारों को साफ-सुथरा बना दिया। सफाई महाअभियान शुरू होने से पूर्व पूज्य गुरु जी ने इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति पर पुष्पांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर केन्द्रीय विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह, दिल्ली के भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद मनोज तिवारी, सांसद अनुराग ठाकुर, पूज्य गुरुजी की साहिबजादी आदरणीय बहन हन्नीप्रीत जी इन्सां ने भी शहीदों को नमन् किया।

तत्पश्चात पूज्य गुरु जी समारोह स्थल पर पहुंचे और पूज्य गुरु जी संग सभी गणमान्यजनों ने झाडू लगाकर व स्वच्छता अभियान संबंधित स्लोगन लिखे गुब्बारे आकाश में छोड़कर सफाई महाअभियान का शुभारंभ किया। इसके बाद पूज्य गुरु जी ने झंडी दिखाकर सेवादारों को पूरी तन्यमता से स्वच्छता अभियान में जुट जाने का आह्वान किया।

पूज्य गुरु जी द्वारा शुभारंभ करने के साथ ही दिल्ली के अलग-अलग 13 जोनों में शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के सेवादारों ने सफाई महाअभियान की शुरुआत कर दी। सेवादारों ने नालों में भरी गंदगी व सड़कों के किनारे पडे कूड़े के ढेरों को देखते ही देखते साफ कर दिया।

सफाई महाअभियान के उद्घाटन अवसर पर पूज्य गुरु जी ने अपने संबोधन में फरमाया कि यह स्वच्छता का महाकुंभ है। हमारे धर्म ग्रंथों पवित्र वेदों ने भी स्वच्छता के महत्व को माना है। उनमें बताया गया है कि अगर वातावरण स्वच्छ होगा तो इंसान की बुद्धि विवेक शुद्ध होगा तथा बीमारियां नहीं आएंगी। वर्ष 2011 में दिल्ली से ही स्वच्छता महाअभियान आरंभ किए थे, उस समय दिल्ली में डेंगू फैला हुआ था।

सफाई अभियान के बाद डेंगू के मामलों में काफी कमी आई थी। हमारा प्रयास है कि दिल्ली (राजधानी) स्वच्छता में पहले नंबर पर हो। हमने स्वच्छता अभियान की शुरूआत की थी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने इसे अपनाकर देश के कोने-कोने में पहुंचाया है। अगर सरकार अनुमति व सहयोग दे, तो यमुना जी की सफाई भी हम करवा सकते हैं।
पूज्य गुरुजी ने फरमाया कि अगर सरकार गंदगी फैलाने वालों पर थोड़ा जुर्माना लगा दे, तो लोग गंदगी फैलाने की बुरी आदत छोड़ देंगे और सरकार का खजाना भी भरेगा।

नई पहल: पूज्य गुरु जी ने की ‘काऊ मिल्क पार्टी’

पूज्य गुरु जी ने सफाई के महाकुंभ की शुरूआत के अवसर पर ‘काऊ मिल्क पार्टी’ आयोजित करवाई। इस दौरान पूज्य गुरु जी ने स्वयं भी देशी गाय का दूध पीकर इस पार्टी का आगाज किया। इस अवसर पर मौजूद सभी गणमान्य जनों व मीडियाकर्मियों ने ‘काऊ मिल्क’ (गाय का दूध) पार्टी का लुत्फ उठाया।

इसके अलावा भारत वर्ष में गाय के सम्मान को और ऊंचा उठाने के लिए पूज्य गुरु जी ने केन्द्र सरकार से इसे ‘राष्टÑीय पशु’ घोषित करने की बात भी उठाई। आपजी ने लोगों से आह्वान किया कि गाय का दूध पीयें, न कि उसका मांस खाएं। गाय को हमारे हिंदू धर्म में माँ का दर्जा दिया गया है, क्योंकि गाय हमें पीने के लिए दूध ही नहीं देती, अपितु कई भयावह बीमारियों से भी बचाती है। गाय का दूध बहुत ही गुणकारी होता है, वहीं गौमूत्र व इसका गोबर बैक्टिरिया को फैलने से रोकता है। हमारे पूजनीय बापू स. नंबरदार मग्घर सिंह जी भी घर में देशी गाय रखते थे।

एक बार दो गाय काफी ज्यादा उम्र की हो गई, तो उनका शरीर कमजोर पड़ गया। पूज्य बापू जी एक दिन उन गायों के पास बैठकर गीता का पाठ कर रहे थे। जब हमने इस बारे में बापू जी से पूछा, तो उन्होंने बताया कि हम चाहते हैं कि गाय को अंतिम समय में कोई कष्ट न हो, इसलिए पवित्र गीता का पाठ सुना रहे हैं।

चिकित्सा स्टाफ की भी रही तैनाती

सफाई अभियान के दौरान सेवादारों के स्वास्थ्य का भी खास ध्यान रखा गया। महरौली के निकट ही छत्तरपुर मंदिर परिसर में, सेवादारों के ठहरने की जगह पर ही चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई गई थी। यहां एम्स अस्पताल से चिकित्सीय स्टाफ को तैनात किया गया था।

इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति पर पुष्पांजलि अर्पित करते पूज्य गुरु जी व गणमान्यजन।

नई दिल्ली 32वें सफाई महाअभियान के शुभारंभ के दौरान पूज्य गुरु जी के साथ काऊ मिल्क पार्टी का लुत्फ लेते हुए गणमान्यजन।

राजनीतिज्ञ बोले, वाह! भई वाह!!

एक सैनिक अपने देश के लिए सब कुछ कुर्बान कर देता है, पर आज ऐसी फोर्स (शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैल्फेयर फोर्स विंग) भी देखने को मिली, जो नि:स्वार्थ भाव से लोगों की भलाई के लिए जी-जान से लगी हुई है। ऐसी सेना से सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए और पूज्य गुरू जी के इस सफाई अभियान को सफल बनाने में सहयोग देना चाहिए।
पूर्व जरनल वीके सिंह, केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री।

हर रोज भारत में सैकड़ों लोग बीमारियों के चलते मर रहे हैं। इन बीमारियों की मूल वजह गंदगी ही तो है। गुरू जी ने सफाई अभियान चलाकर बहुत ही सराहनीय कार्य किया है। पीएम मोदी जी ने भी देश को स्वच्छ बनाने का संकल्प लिया हुआ है। हम सभी को मिलकर इस सपने को साकार करना है।
अनुराग ठाकुर, युवा भाजपा सांसद एवं पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष।

दिल्ली में सफाई अभियान को लेकर पूज्य गुरू जी और सेवादारों का तहेदिल से आभारी हूँ। मैं गुरू जी को विश्वास दिलाता हूँ कि दिल्ली में जो 70 साल में नहीं हुआ, वो हम आगामी 7 सालोें में करके दिखाएंगे।
मनोज तिवारी, भाजपा युवा सांसद व
प्रदेशाध्यक्ष दिल्ली।

इस अभियान से दिल्ली के लोगों को जागरूक होना चाहिए और इसे निरंतर जारी रखना होगा, जिससे देश व विदेश में भारत का सम्मान बढ़ेगा। इतनी बड़ी संख्या में लोग बिना किसी स्वार्थ के लोकहित में कार्य करने के लिए जुटे हैं, मैं यह देखकर हैरान हूं।
– रूबी यादव, डायरेक्टर एनआईएफटी, मिसीज यूनिवर्स वैस्ट एशिया-2015 एवं मिसीज इंडिया क्वीन -2013