हर मौसम का साथी – नींबू :

छोटे-छोटे फल भी अपने आप में बहुत ही लाभकारी होते हैं। दु:ख सिर्फ इतना है कि हम उसके विषय में जानते नहीं क्योंकि अब औषधियों पर आदमी ध्यान इतना कहां देता है। आज तो वो समय है कि पैसा फूंकना बेहतर समझते हैं पर थोड़ी मेहनत करना ठीक नहीं समझते जबकि यह ज्यादा लाभकारी होता है।

नींबू को कम न समझिये क्योंकि यह भी अपने हिसाब से बड़े ही काम का है। भारत में एक से अधिक प्रकार के नींबू पाये जाते हैं। हर प्रकार के नींबू में साइट्रिक अम्ल और प्राकृतिक लवण पोटाश फास्फोरस तो मुख्य रूप से होते ही हैं। ये रक्त की कमियों को दूर करते हैं तथा रक्त को शुद्घ करते हैं। देखा जाय तो इनकी खूबी के कारण ही इस छोटे से फल को औषधि के रूप में देखा जाता है।

वैसे आप हर प्रकार के फल में कुछ न कुछ जरूर उपयोग का अंश पाएंगे लेकिन इसका महत्त्व इस लिए ज्यादा है कि नींबू में साइट्रिक अम्ल और लवण फास्फोरस अधिक पाया जाता हैं। साल भर प्राप्त होने के कारण इसका महत्व अधिक है। नींबू त्वचा के रोग, मसूढों की सूजन, गले की खराश और टांसिल के रोगों में भी आराम पहुंचाता है, साथ ही आंख कान के रोगों में भी फायदा करता है। नासिका रक्तस्राव में तो यह चमत्कारिक लाभ कर तुरन्त रोकता है।

भोजन सामग्री को बेकार होने से भी बचाता है।

इसकी यह खूबी अधिक प्रभावित करती है कि हर मौसम में मौसम के हिसाब से काम काम करता है।

यह जिस खाद्य पदार्थ में मिलाया जाता है उसका स्वाद ही बदल कर रख देता है। उदाहरण के लिए आप सब्जी खाते समय उसमें अगर इसका रस डाल कर खाएं तो नया स्वाद बन जाता है और खाने में चार चांद लगा सकता है क्योंकि यह खट्टा होता है पर पेट के रसों के साथ क्रिया होने से क्षारीय पदार्थ बन जाते हैं जो रक्त को शुद्घ व सही बनाते है। नींबू में 89 प्रतिशत भाग जल का समावेश होता है।

बर्फीले स्थलों व पहाड़ों पर जाने वाले लोग नींबू को अपना साथी समझ कर साथ ले जाते हैं। सौंदर्य संबंधी अनेक समस्याओं का समाधान नींबू है। सिर से लेकर पैर तक सौंदर्यवर्द्घक और बालों के लिए तो राम बाण है तथा रूसी का परम शत्रु है क्योंकि इसका रस लगा कर अगर सिर साफ करें तो रूसी छूमंतर हो जाती है। साथ ही पानी में इसका रस मिलाकर बाल धोएं तो बालों में चमक आ जाती है।

सुबह-सुबह पानी और नींबू पीने से कई प्रकार के लाभ होते हैं क्योंकि यह नींबू का रस कब्ज वगैरह के लिए बड़ा ही लाभकारी है। आपने लोगों को देखा होगा कि आंखों के चारों तरफ काली झांइयां तथा मुंहासे कब्ज वगैरह के ही कारण होते हैं। इस लिए कब्ज गायब होते ही इसका नामो निशान गायब हो जाता है।

यह पेट से संबंधित करीब करीब समस्त विकारों में भी लाभ पहुंचाता है। स्कर्वी रोग की तो विशेष दवा है। पुराने जुकाम में भी नींबू पानी लाभ पहुंचाता है। इस प्रकार इस छोटे से फल में कितने प्रकार के गुण व्याप्त हैं इसकी जानकारी प्राप्त कर आप हर मौसम में इसका लाभ उठा सकते हैं।
– सूर्य नारायण सूर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here