कैटरिंग से करियर
शादियों में पहले जहां रीति-रिवाजों को प्राथमिकता दी जाती थी, वहीं अब बदलते वक्त के साथ लोगों ने शादी की हर रस्म को यादगार बनाने के लिए बारातियों के स्वागत से ले कर सजावट तक, हर इंतजाम पर खास ध्यान देना शुरू कर दिया है। इन सब में सबसे पहले नंबर आता है खाने का इंतजाम। अगर आपके खाने का मेन्यू फिट हो तो आपका आयोजन हिट माना जाता है।

एक अनुमान के मुताबिक भारतीय होटल इंडस्ट्री 15 प्रतिशत सालाना की दर से वृद्धि कर रही है। इस क्षेत्र में विदेशी कंपनियां भी भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी कर रही हैं। रेस्तरां या फास्ट फूड ज्वाइंट के बढ़ते विस्तार के बाद तो कैटरिंग एक बिजनेस का रूप ले चुका है। ज़ाहिर है, जहां इतने सारे होटल, रेस्तरां होंगे वहां कैटरिंग के काम की भी मांग होगी।

कैटरिंग एक सेवा देने वाली इंडस्ट्री है, जिसमें ग्राहकों को उनकी मांग के अनुसार सुविधाएं दी जाती हैं। इस काम के लिए कार्यकुशल और प्रभावशाली व्यक्तित्व का होना जरूरी है। भूमंडलीकरण के दौर में इस क्षेत्र में कई अवसर पैदा हुए हैं।

नेचर आॅफ वर्क:

कैटरिंग के क्षेत्र में कामयाब होने के लिए व्यक्तिगत संबंध होना जरूरी है। आज सभी छोटे-बड़े होटलों में कैटरिंग टेक्नोलॉजी के जानकारों की मांग है। अगर आप खुद का काम शुरू करना चाहते हैं, तो घर या दुकान कहीं से भी यह काम शुरू कर सकते हैं। इस काम को छोटे स्तर पर शुरू करने के लिए ज्यादा लोगों की जरूरत नहीं है, वहीं बड़े स्तर पर शुरूआत के लिए कई लोगों की जरूरत होती है।

बड़े स्तर पर कैटरिंग के काम के लिए ज्यादा लागत और बड़ी जगह की जरूरत पड़ती है। आपको हमेशा ध्यान रखना होगा कि आपने ग्राहक से जो वायदा किया है, वह किसी भी हालत में न टूटे। विश्वास ही इस काम में कामयाबी का रास्ता है। लेकिन यदि पुराने ढर्रे पर चल कर आप सफल होना चाहते हैं तो थोड़ी मुश्किल होगी, क्योंकि हर चीज तेजी के साथ बदल रही है और लोगों के खाने का टेस्ट वैश्विक हो रहा है। यदि आप नए व्यंजनों से अवगत नहीं रहेंगे तो इस काम में आपकी सफलता सीमित रह जाएगी।

प्रशिक्षण:

कैटरिंग होटल मैनेजमेंट का अहम हिस्सा है। ऐसे संस्थानों की कोई कमी नहीं है, जो कैटरिंग का प्रशिक्षण उपलब्ध कराते हैं। इन कोर्सेज की अवधि संस्थानों पर निर्भर करती है। ध्यान रखें कि अच्छे संस्थान से लिया गया प्रशिक्षण बेहतर रोजगार दिलाने में कारगर होता है। आजकल कैटरिंग से जुड़े हुए कई कोर्सेज उपलब्ध हैं, जिसके माध्यम से आप एक बेहतरीन कैटरर बन सकते हैं।

शैक्षणिक योग्यता:

कैटरिंग के लिए पहले किसी कोर्स या कोई योग्यता जरूरी नहीं थी, पर पिछले कुछ समय से इसमें सर्टिफिकेट, डिप्लोमा जैसे कोर्स भी कराए जाने लगे हैं। आपका 12वीं पास या स्रातक होना जरूरी है। 12वीं में अंग्रेजी अनिवार्य विषय के रूप में पढ़ी होनी चाहिए। इस इंडस्ट्री में कामयाब होने के लिए खास गुण जैसे मृदुभाषी होना, हर स्थिति में शांत रहना, सेवा सत्कार को महत्व देना आदि जरूरी है।

कहां-कहां हैं अवसर:

जॉब के नजरिए से यह क्षेत्र अवसरों से भरा है। इसमें एयरलाइन कैटरिंग एवं केबिन सर्विस, हॉस्पिटल एडमिनिस्टेÑेशन एंड कैटरिंग, होटल और टूरिज्म एसोसिएशन, रेलवे, बैंक, सैन्य बल, शिपिंग कॉरपोरेशन आदि के साथ जुड़ कर भी काम कर सकते हैं। इसका प्रशिक्षण लेने वाले लोग होटल्स के काम करना पसंद करते हैं।

देश-विदेश में प्रचलन में आ रहे नए व्यंजन के बारे में अपडेट रहना और इस तरह की नई चीजों को ईजाद करना आता है तो कैटरिंग का क्षेत्र बहुत अच्छा है।

प्रमुख संस्थान :

नेशनल काउंसिल फॉर होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी, नोएडा खुंजरि देवांगन